waqt shayari images

Waqt Shayari in hindi | Best Shayari on Waqt images

Here you see best collection of waqt shayari, waqt shayari in hindi, Shayari on waqt.

नादानियां ले गया – Waqt Shayari in Hindi

कुछ इस तरह से सौदा किया मुझसे मेरे वक़्त ने,

तजुर्बे देकर वो मुझसे मेरी नादानियां ले गया।

waqt shayari images
waqt shayari images

Kuch Ish Tarah Se Souda Kiya Mujhse Mere Waqt Ne,

Tajurbe Dekar Woh Mujhse Meri Nadaniyan Le Gaya.

 

वक़्त की रफ़्तार रुक गयी होती

शर्म से आँखें झुक गयी होती,

अगर दर्द जानती शमअ् परवाने का

तो जलने से पहले ही वो बुझ गयी होती।

 

Waqt Ki Raftar Ruk Gayi Hoti

Sharm Se Aankhein Jhuk Gayi Hoti,

Agar Dard Janti Shamma Parwane Ka

To Jalne Se Pehle Hi Woh Bujh Gayi Hoti.

 

वो वक़्त का खेल खेलते रह गयें,

हमने वक़्त पर खेल ही बदल दिया।

 

Wo Waqt Ka Khel Khelte Reh Gaye,

Humne Waqt Par Khel Hi Badal Diya.

 

खराब चल रहा हूँ – Waqt status

मेरे साथ बैठ कर वक़्त भी रोया,

इक दिन बोला बन्दा तू ठीक है मैं ही खराब चल रहा हूँ।

waqt shayari images
waqt shayari images

Mere Sath Baith Kar Waqt Bhi Roya,

Ik Din Bola Banda Tu Theek Hai Main Hi Kharab Chal Raha Hun.

 

तुमने वो वक़्त कहां देखा जो गुज़रता ही नहीं,

दर्द की रात किसे कहते हैं तुम क्या जानो।

 

Tumne Woh Waqt Kahan Dekha Jo Guzarta Hi Nahi,

Dard Ki Raat Kise Kehte Hain Tum Kya Jano.

 

इतनी जल्दी हार मत मान जिंदगी से,

आज वक़्त बुरा है तो कल अच्छा भी होगा।

 

Itni Jaldi Haar Mat Maan Zindagi Se,

Aaj Waqt Bura Hai To Kal Achcha Bhi Hoga.

 

कभी वक़्त ही नही मिला – Waqt shayari in hindi

दिल खोल कर हंसना तो मैं भी चाहता था,

जिम्मेदारियों के बीच कभी वक़्त ही नही मिला।

waqt shayari images
waqt shayari images

Dil Khol Kar Hasna To Main Bhi Chahta Tha,

Jimmedariyon Ke Beech Kabhi Waqt Hi Nahi Mila.

 

डर नहीं लगता मुझे इस रात के अंधेरे से,

ये तो वक़्त की पाबंद है, ढल ही जाएगी।

 

Dar Nahi Lagta Mujhe Ish Raat Ke Andhere Se,

Yeh To Waqt Ki Paband Hai, Dhal Hi Jayegi.

 

कभी खिलाफ़ तो कभी साथ होता है,

इंसान की बर्बादी में वक़्त का भी हाथ होता है।

 

Kabhi Khilaaf To Kabhi Sath Hota Hai,

Insaan Ki Barbadi Mein Waqt Ka Bhi Hath Hota Hai.

 

Read More: 

 

वक़्त-वक़्त की बात है – Bura Waqt Shayari

वक़्तवक़्त की बात है,

किसी को बदनामी मिलती है तो किसी को सलामी।

shayari on waqt images
shayari on waqt images

WaqtWaqt Ki Baat Hai,

Kisi Ko Badnami Milti Hai To Kisi Ko Salami.

 

ज़िंदगी यूँ ही बहुत कम है मोहब्बत के लिए,

रूठ कर वक़्त गँवाने की ज़रूरत क्या है।

 

Zindagi Yun Hi Bahut Kam Hai Mohabbat Ke Liye,

Rooth Kar Waqt Ganwane Ki Jaroorat Kya Hai.

 

वक़्त मुक़र्रर कर लेते हैं चाँद को तकने का,

जिस रोज़ मैं देखूं उस रोज़ तुम देखो।

 

Waqt Muqarrar Kar Lete Hain Chand Ko Takne Ka,

Jis Roz Main Dekhun Ush Roz Tum Dekho.

 

मुझे सज़ा-ए-मोहब्बत दी – Waqt status in hindi

ना तूफ़ान ने दस्तक दी और ना पत्थर ने चोट दी,

वक़्त तकदीर से मिला और मुझे सज़ा-ए-मोहब्बत दी।

shayari on waqt images
shayari on waqt images

Na Toofan Ne Dastak Di Aur Na Patthar Ne Chot Di,

Waqt Taqdeer Se Mila Aur Saza-E-Mohabbat Di.

 

हम पर उन गलतियों के इल्ज़ाम लगे

जिन गलतियों में मेरा कोई हाथ ना था,

अपनी बेगुनाही साबित भी कैसे करते

जब वक़्त ही मेरे साथ ना था।

 

Hum Par Unn Galtiyon Ke Ilzaam Lage

Jin Galtiyon Mein Mera Koi Hath Na Tha,

Apni Begunahi Sabit Bhi Kaise Karte

Jab Waqt Hi Mere Sath Na Tha.

 

अगर फ़ुर्सत मिले पानी की तहरीरों को पढ़ लेना,

हर इक दरिया हज़ारों साल का अफ़साना लिखता है।

 

Agar Fursat Mile Pani Ki Tehreeron Ko Padh Lena,

Har Ik Dariya Hazaron Saal Ka Afsaana Likhta Hai.

Read More:

 

बातों के सिलसिले कम हो गए – Waqt shayari 2 lines

आंखों के पर्दे भी नम हो गए बातों के सिलसिले भी कम हो गए,

पता नही गलती किसकी है वक़्त बुरा है या बुरे हम हो गए।

shayari on waqt images
shayari on waqt images

Aankhon Ke Parde Bhi Nam Ho Gaye Baton Ke Silsile Bhi Kam Ho Gaye,

Pata Nahi Galti Kiski Hai Waqt Bura Hai Ya Bure Hum Ho Gaye.

 

अभी तो थोड़ा वक़्त है उनको आज़माने दो,

रो-रोकर पुकारेंगे हमें, हमारा वक़्त तो आने दो।

 

Abhi To Thoda Waqt Hai Unko Azmane Do,

Ro Rokar Pukarenge Humein, Hamara Waqt To Aane Do.

 

वक़्त से लड़कर अपना नसीब बदल दे

इंसान वही जो अपनी तकदीर बदल दे,

कल क्या होगा उसकी कभी ना सोचो

क्या पता कल वक़्त खुद अपनी लकीर बदल दे।

 

Waqt Se Ladkar Apna Naseeb Badal De

Insaan Wahi Jo Apni Taqdeer Badal De,

Kal Kya Hoga Uski Kabhi Na Socho

Kya Pata Kal Waqt Khud Apni Lakeer Badal De.

 

वक़्त से आगे कभी निकल न सका – Waqt ki shayari

चलकर देखा है अक्सर मैंने अपनी चाल से तेज़,

पर वक़्त और तक़दीर से आगे कभी निकल न सका।

waqt shayari images
waqt shayari images

Chal Kar Dekha Hai Maine Apni Chaal Se Tezz,

Par Waqt Aur Taqdeer Se Aage Kabhi Nikal Na Saka.

 

तलाश है एक ऐसे शख्स की,

जो आँखों में उस वक़्त दर्द देख सके,

जब सब लोग मुझसे कहते हैं,

क्या बात है हमेशा हँसते रहते हो।

 

Talaash Hai Ik Aise Shakhs Ki,

Jo Aankhon Mein Ush Waqt Dard Dekh Sake,

Jab Sab Log Mujhse Kehte Hain

Kya Baat Hai Hamesha Hanste Rehte Ho.

 

Write By: Danish Raza

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *