Best Collection of Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi with images

Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi | Tehzeeb Hafi Poetry in Urdu

Table of Contents

Best Collection of Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi with images

यार ये कैसा महबूब है – Tehzeeb Hafi Poetry

Best Collection of Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi images
Best Collection of Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi images

घर में भी दिल नहीं लग रहा, काम पर भी नहीं जा रहा,

जाने क्या ख़ौफ़ है जो तुझे चूम कर भी नहीं जा रहा।

 

Ghar Mein Bhi Dil Nahi Lag Raha Hai, Kaam Par Bhi Nahi Ja Raha

Jane Kya Khof Hai Jo Tujhe Choom Kar Bhi Nahi Ja Raha.!!!

 

रात के तीन बजने को हैं, यार ये कैसा महबूब है?

जो गले भी नहीं लग रहा और घर भी नहीं जा रहा।

 

Raat Ke Teen Bajne Ko Hain, Yaar Yeh Kaisa Mehboob Hai?

Jo Gale Bhi Nahi Lag Raha Aur Ghar Bhi Nahi Ja Raha.!!!

 

उसके घर का पता जानते हो – तहज़ीब हाफी शायरी

तहज़ीब हाफी शायरी फोटो
तहज़ीब हाफी शायरी फोटो

तुम्हें हुस्न पर दस्तरस है बहोत, मोहब्बत वोहब्बत बड़ा जानते हो,

तो फिर ये बताओ कि तुम उसकी आंखों के बारे में क्या जानते हो?

ये ज्योग्राफियाँ, फ़लसफ़ा, साइकोलोजी, साइंस, रियाज़ी वगैरह,

ये सब जानना भी अहम है, मगर उसके घर का पता जानते हो?

 

Tumhe Husn Par Dastaras Hai Bahut, Mohabbat Wohabbat Bada Jante Ho

To Phir Yeh Batao Ki Tum Uski Aankhon Ke Bare Mein Kya Jante Ho?

Yeh Geographiyan, Falsafa, Psychology, Science, Riyazi Wagairah

Yeh Sab Janna Bhi Ayham Hai Magar Uske Ghar Ka Pata Jante Ho.???

 

लड़कियाँ इश्क़ में कितनी पागल होती हैं – Tehzeeb Hafi Poetry

Tehzeeb Hafi Poetry images
Tehzeeb Hafi Poetry images

थोड़ा लिखा और ज़्यादा छोड़ दिया,

आने वालों के लिए रास्ता छोड़ दिया।

 

Thoda Likha Aur Jyada Chhod Diya,

Aane Walon Ke Liye Rasta Chhod Diya.

 

लड़कियाँ इश्क़ में कितनी पागल होती हैं

फ़ोन बजा और चूल्हा जलता छोड़ दिया।

 

Ladkiyan Ishq Mein Kitni Pagal Hoti Hain,

Phone Baja Aur Chulha Jalta Chhod Diya.

 

तुम क्या जानो उस दरिया पे क्या गुज़री,

तुमने तो बस पानी भरना छोड़ दिया।

 

Tum Kya Jano Ush Dariya Pe Kya Guzri,

Tumne To Bas Pani Bharna Chhod Diya.

 

बस कानों पर हाथ रख लेते थोड़ी देर और,

फिर उस आवाज़ ने पीछा छोड़ दिया।

 

Bas Kano Par Hath Rakh Lete Thodi Der Aur,

Phir Ush Aawaz Ne Picha Chhod Diya.

 

Read More:

 

Tera Chup Rahna Mere Zehan Mein Kya Baith Gaya – tehzeeb hafi shayari in english

tehzeeb hafi shayari in english images
tehzeeb hafi shayari in english images

तेरा चुप रहना मेरे ज़ेहन में क्या बैठ गया,

इतनी आवाज़ें तुझे दीं कि गला बैठ गया।

 

Tera Chup Rehna Mere Zahen Mein Kya Baith Gaya,

Itni Aawazen Tujhe Di Ki Gala Baith Gaya

 

यूँ नहीं है कि फ़क़त मैं ही उसे चाहता हूँ,

जो भी उस पेड़ की छाँव में गया बैठ गया।

 

Yun Nahi Hai Ki Fakat Main Hi Use Chahta Hun,

Jo Bhi Ush Ped Ki Chahon Mein Gaya Baith Gaya.

 

इतना मीठा था वो ग़ुस्से भरा लहजा मत पूछ,

उसने जिस जिस को भी जाने का कहा बैठ गया।

 

Itna Meetha Tha Woh Gusse Bhara Lehja Mat Puchh,

Usne Jis Jis Ko Bhi Jane Ka Kaha Baith Gaya.

 

अपना लड़ना भी मोहब्बत है तुम्हें इल्म नहीं,

चीख़ती तुम रहीं और मेरा गला बैठ गया।

 

Apna Ladna Bhi Mohabbat Hai Tumhe Ilm Nahi,

Chikhti Tum Rahi Aur Mera Gala Baith Gaya.

 

उस की मर्ज़ी वो जिसे पास बिठा ले अपने,

इस पे क्या लड़ना फलाँ मेरी जगह बैठ गया।

 

Ush Ki Marzi Woh Jise Pas Bitha Le Apne,

Ish Pe Kya Ladna Falah Meri Jagah Baith Gaya.

 

बात दरियाओं की, सूरज की, न तेरी है यहाँ,

दो क़दम जो भी मेरे साथ चला बैठ गया।

 

Baat Dariyaon Ki Suraj Ki Na Teri Hai Yahan,

Do Qadam Jo Bhi Mere Sath Chala Baith Gaya.

 

बज़्म-ए-जानाँ में नशिस्तें नहीं होतीं मख़्सूस,

जो भी इक बार जहाँ बैठ गया बैठ गया।

 

Bazme Jana Mein Nashishtein Nahi Hoti Makhsoos,

Jo Bhi Ek Baar Jahan Baith Gaya Baith Gaya.

 

अब वो मेरे ही किसी दोस्त की मनकूहा है – Tehzeeb Hafi Poetry in Urdu

ख़ाक ही ख़ाक थी और ख़ाक भी क्या कुछ नहीं था,

मैं जब आया तो मेरे घर की जगह कुछ नहीं था।

 

Khak Hi Khak Thi Aur Khak Bhi Kya Kuch Nahi Tha,

Main Jab Aaya To Mere Ghar Ki Jagah Kuch Nahi Tha.

 

क्या करूं तुझसे ख़यानत नहीं कर सकता मैं,

वरना उस आंख में मेरे लिए क्या कुछ नहीं था।

 

Kya Karun Tujhse Khayanat Nahi Kar Sakta Main,

Warna Ush Aankh Mein Mere Liye Kya Kuch Nahi Tha.

 

ये भी सच है मुझे कभी उसने कुछ ना कहा,

ये भी सच है कि उस औरत से छुपा कुछ नहीं था।

 

Yeh Bhi Sach Hai Mujhe Kabhi Usne Kuch Na Kaha,

Yeh Bhi Sach Hai Ki Ush Aurat Se Chupa Kuch Nahi Tha.

 

अब वो मेरे ही किसी दोस्त की मनकूहा है,

मैं पलट जाता मगर पीछे बचा कुछ नहीं था।

 

Ab Woh Mere Hi Kisi Dost Ki Mankuha Hai,

Main Palat Jata Magar Piche Bacha Kuch Nahi Tha.

 

Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi

तू तीर है तो मेरे कलेजे के पार हो – तहज़ीब हाफी

जो तेरे साथ रहते हुए सोगवार हो,

लानत हो ऐसे शख़्स पे और बेशुमार हो।

 

Jo Tere Sath Rehte Hue Sogawar Ho,

Lanat Ho Aise Shakhs Pe Aur Beshumar Ho.

 

अब इतनी देर भी ना लगा, ये हो ना कहीं,

तू आ चुका हो और तेरा इंतज़ार हो।

 

Ab Itni Der Bhi Na Laga, Yeh Ho Na Kahin,

Tu Aa Chuka Ho Aur Tera Intezar Ho.

 

मै फूल हूँ तो फिर तेरे बालों में क्यों नहीं हूँ,

तू तीर है तो मेरे कलेजे के पार हो।

 

Main Phool Hun To Phir Tere Balon Mein Kyun Nahi Hun,

Tu Teer Hai To Mere Kaleje Ke Paar Ho.

 

एक आस्तीन चढ़ाने की आदत को छोड़ कर,

हाफ़ी’ तुम आदमी तो बहुत शानदार हो।

 

Ek Asteen Chadane Ki Aadat Ko Chhod Kar,

Hafi‘ Tum Aadmi To Bahut Shandar Ho.

 

Also Read:

 

अगर कभी तेरे नाम पर जंग हो गई तो – Tehzeeb hafi poetry status

Tehzeeb Hafi Poetry in Urdu images
Tehzeeb Hafi Poetry in Urdu images

उसी जगह पर जहाँ कई रास्ते मिलेंगे,

पलट के आए तो सबसे पहले तुझे मिलेंगे।

 

Usi Jagah Par Jahan Kai Raste Milenge,

Palat Ke Aaye To Sabse Pehle Tujhe Milenge.

 

अगर कभी तेरे नाम पर जंग हो गई तो,

हम ऐसे बुजदिल भी पहली सफ़ में खड़े मिलेंगे।

 

Agar Kabhi Tere Naam Par Jung Ho Gayi To,

Hum Aise Bujdil Bhi Pehli Saf Mein Khade Milenge.

 

तुझे ये सड़कें मेरे तवस्सुल से जानती हैं,

तुझे हमेशा ये सब इशारे खुले मिलेंगे।

 

Tujhe Yeh Sadken Mere Tawassul Se Janti Hain,

Tujhe Hamesha Yeh Sab Ishare Khule Milenge.

 

Tehzeeb Hafi Poetry

तू हमें चूमता था – तहज़ीब हाफी शायरी

ज़हन पर जोर देने से भी याद नहीं आता कि हम क्या देखते थे,

सिर्फ इतना पता है कि हम आम लोगों से बिल्कुल जुदा देखते थे।

 

Zahen Par Zor Dene Se Bhi Yaad Nahi Aata Ki Hum Kya Dekhte The

Sirf Itna Pata Hai Ki Hum Aam Logon Se Bilkul Juda Dekhte The.

 

तब हमें अपने पुरखों से विरसे में आई हुई बद्दुआ याद आई,

जब कभी अपनी आंखों के आगे तुझे शहर जाता हुआ देखते थे।

 

Tab Humein Apne Purkhon Se Wirse Mein Aayi Hui Baddua Yaad Aayi,

Jab Kabhi Apni Aankhon Ke Aage Tujhe Shaher Jata Hua Dekhte The.

 

सच बताएं तो तेरी मोहब्बत ने खुद पर तवज्जो दिलाई हमारी,

तू हमें चूमता था तो घर जाकर हम देर तक आईना देखते थे।

 

Sach Bataein To Teri Mohabbat Ne Khud Par Tawazzo Dilayi Hamari,

Tu Hume Choomta Tha To Ghar Jakar Hum Der Tak Aaina Dekhte The.

 

चोर दरवाज़ा बना लेता – Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi

Tehzeeb hafi poetry status images
Tehzeeb hafi poetry status images

तुझे भी अपने साथ रखता और उसे भी अपना दीवाना बना लेता,

अगर मैं चाहता तो दिल में कोई चोर दरवाज़ा बना लेता।

 

Tujhe Bhi Apne Sath Rakhta Aur Use Bhi Apna Deewana Bana Leta,

Agar Main Chahta To Dil Mein Koi Chor Darwaza Bana Leta.

 

मैं अपने ख्वाब पूरे कर के खुश हूँ पर ये पछतावा नहीं जाता,

के मुस्तक़बिल बनाने से तो अच्छा था तुझे अपना बना लेता।

 

Main Apne Khwab Pure Karke Khush Hun Par Yeh Pachtawa Nahi Jata,

Ke Mustaqbil Banane Se To Achha Tha Tujhe Apna Bana Leta.

 

अकेला आदमी हूँ और अचानक आये हो, जो कुछ था हाजिर है,

अगर तुम आने से पहले बता देते तो कुछ अच्छा बना लेता।

 

Akela Aadmi Hun Aur Achanak Aaye Ho, Jo Kuch Tha Hazir Hai,

Agar Tum Aane Se Pehle Bata Dete To Kuch Achha Bana Leta.

 

Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi

Us Ladki Se – Tehzeeb Hafi Sher

ख्वाबों को आँखों से मिन्हा करती है,

नींद हमेशा मुझसे धोखा करती है।

 

Khwabon Ko Aankhon Se Minha Karti Hai,

Neend Hamesha Mujhse Dhoka Karti Hai.

 

उस लड़की से बस अब इतना रिश्ता है,

मिल जाए तो बात वगैरा करती है।

 

Ush Ladki Se Bas Ab Itna Rishta Hai,

Mil Jaye To Baat Wagairah Karti Hai.

 

सब परिंदों से प्यार लूँगा मैं – Tehzeeb hafi shayari status

 

सब परिंदों से प्यार लूँगा मैं,

पेड़ का रूप धार लूँगा मैं।

 

Sab Parindon Se Pyar Lunga Main,

Ped Ka Roop Dhar Lunga Main.

 

रात भी तो गुजार ली मैंने,

जिन्दगी भी गुजार लूंगा मैं।

 

Raat Bhi To Guzar Li Maine,

Zindagi Bhi Guzar Lunga Main.

 

तू निशाने पे आ भी जाए अगर,

कौन सा तीर मार लूँगा मैं।

 

Tu Nishane Pe Aa Bhi Jaye Agar,

Kounsa Teer Maar Lunga Main.

 

क्या हुआ – तहज़ीब हाफी शेर

एक और शख़्स छोड़कर चला गया तो क्या हुआ,

हमारे साथ कौन सा ये पहली मर्तबा हुआ।

 

Ek Aur Shakhs Chhod Kar Chala Gaya To Kya Hua,

Hamare Sath Kounsa Yeh Pehli Martaba Hua.

 

अज़ल से इन हथेलियों में हिज्र की लकीर थी,

तुम्हारा दुःख तो जैसे मेरे हाथ में बड़ा हुआ।

 

Azal Se Inn Hatheliyon Mein Hizr Ki Lakeer Thi,

Tumhara Dukh To Jaise Mere Hath Mein Bada Hua.

 

मेरे खिलाफ दुश्मनों की सफ़ में है वो,

और मैं बहुत बुरा लगूँगा उस पर तीर खींचता हुआ।

 

Mere Khilaf Dushmano Ki Saf Mein Hai Woh

Aur Main Bahut Bura Lagunga Ush Par Teer Khichta Hua.

 

तहज़ीब हाफी शायरी हिंदी में | Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi

गए वक्तू में हम दरिया रहे हैं – तहज़ीब हाफी

अब उस जानिब से इस कसरत से तोहफे आ रहे हैं,

के घर में हम नई अलमारियाँ बनवा रहे हैं।

 

हमें मिलना तो इन आबादियों से दूर मिलना,

उससे कहना गए वक्तू में हम दरिया रहे हैं।

 

तुझे किस किस जगह पर अपने अंदर से निकालें,

हम इस तस्वीर में भी तूझसे मिल के आ रहे हैं।

 

हजारों लोग उसको चाहते होंगे हमें क्या,

के हम उस गीत में से अपना हिस्सा गा रहे हैं।

 

बुरे मौसम की कोई हद नहीं तहजीब हाफी,

फिज़ा आई है और पिंजरों में पर मुरझा रहे हैं।

6 thoughts on “Tehzeeb Hafi Shayari in Hindi | Tehzeeb Hafi Poetry in Urdu”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *