Kanha Kamboj Shayari in Hindi with images download

Kanha Kamboj Shayari in Hindi with images Download

कुछ तो जला होगा – kanha kamboj shayari

कुछ तो जला होगा यूं बेवजह धुआं तो ना हुआ होगा,

जिसे डरते हैं ख़्वाब में देखने से भी,

वह हादसा हक़ीक़त में कैसे हुआ होगा?

 

Kuch To Jala Hoga Yun Bewajah Dhuan To Na Hua Hoga,

Jise Darte Hain Khwab Mein Dekhne Se Bhi,

Woh Hadsa Haqiqat Mein Kaise Hua Hoga.

 

मेरे हाथ कांपते हैं उसकी तस्वीर को छूते हुए,

ऐ दोस्त! वो गैर के साथ हमबिस्तर कैसे हुआ होगा?

 

Mere Hath Kanpte Hain Uski Tasveer Ko Chhute Hue,

Aye Dost Woh Gair Ke Sath Humbistar Kaise Hua Hoga?

 

हो के हमबिस्तर ग़ैर से इठला के जो तू आ रही है,

दूर चली जा मुझसे, तुझसे रकीब की बू आ रही है।

 

Hoke Humbistar Gair Se Ithla Ke Jo Tu Aa Rahi Hai,

Dur Chali Ja Mujhse, Tujhse Raqeeb Ki Boo Aa Rahi Hai.

 

पहले मेरी फांसी मुकर्रर कर दी – kanha kamboj shayari in hindi download

kanha kamboj shayari in hindi images download
kanha kamboj shayari in hindi images download

यह कैसा सितम था उनका कुछ पलों की मोहब्बत के लिए मुझे सालों आजमाया गया,

उन्होंने पहले मेरी फांसी मुकर्रर कर दी, अदालत मुझे बाद में ले जाया गया।

 

Yeh Kaisa Sitam Tha Unka Kuch Palon Ki Mohabbat Ke Liye Mujhe Salon Azmaya Gaya,

Unhone Pehle Meri Fasi Muqarrar Kar Di, Adalat Mujhe Baad Mein Le Jaya Gaya.

 

kanha kamboj shayari images
kanha kamboj shayari images

मेरी फांसी मुकर्रर होने पर वह मुस्कुराई बहुत, ना जाने कौन सा वहम उसके सर चढ़ गया है,

तेरे जाने के बाद जीने की तमन्ना तो यूं भी ना थी, अरे वो शख़्स तो मेरे हक़ में फैसला कर गया है।

 

Meri Fasi Muqarrar Hone Par Woh Muskurayi Bahut,‌ Na Jane Kounsa Wahem Uske Sar Chhad Gaya Hai,

Tere Jane Ke Baad Jeene Ki Tamanna To Yun Bhi Na Thi,

Are Woh Shakhs To Mere Haq Mein Faisla Kar Gaya Hai.

 

गिरा‌ ले अपनी नजरों से – kanha kamboj poetry

kanha kamboj poetry images download
kanha kamboj poetry images download

गिरा‌ ले अपनी नजरों से कितना ही

झुकने पर मजबूर तुझे भी कर दूंगा,

एक बार बदनाम करके तो देख मुझे महफिल में,

कसम से शहर में मशहूर मैं तुझे भी कर दूंगा।

 

Gira Le Apni Nazron Se Kitna Hi Jhukne Par To Majboor Tujhe Bhi Kar Dunga,

Ek Baar Badnaam Karke To Dekh Mujhe Mehfil Mein,

Kasam Se Shaher Mein Mashoor Main Tujhe Bhi Kar Dunga.

 

Read More: 

 

ज़िक्र किसी और का चलता रहा – kanha kamboj ki shayari

kanha kamboj ki shayari image
kanha kamboj ki shayari image

सारी रात उसे छूने से डरता रहा,

मैं बेबस,‌ बेचैन बस करवटें बदलता रहा,

और हाथ तो मेरा ही था उसके हाथ में,

बस बात यह है ज़िक्र किसी और का चलता रहा।

 

Sari Raat Use Chhune Se Darta Raha,

Main Bebas, Bechain Bas Karwatein Badalta Raha,

Aur Hath To Mera Hi Tha Uske Hath Mein,

Bs Baat Yeh Hai Zikr Kisi Aur Ka Chalta Raha.

 

बेवफाई की सारी हदें वो – kanha kamboj poetry in hindi

kanha kamboj poetry in hindi images
kanha kamboj poetry in hindi images

बेवफाई की सारी हदें वो पार कर चुकी होगी,

अपने बदन की आबरू को तार-तार कर चुकी होगी,

मेरे अलावा किसी और के साथ हमबिस्तर हो कर वो यह कमाल कर रही होगी,

और यह किसकी उंगलियां है तेरे जिस्म पर?

उसके बिस्तर की चादर भी उससे सवाल कर रही होगी।

 

Bewafai Ki Sari Hadein Woh Paar Kar Chuki Hogi,

Apne Badan Ki Aabroo Ko Woh Taar Taar Kar Chuki Hogi,

Mere Alawa Kisi Aur Ke Sath Humbistar Ho Kar Woh Yeh Kamaal Kar Rahi Hogi,

Aur Yeh Kiski Ungliyan Hai Tere Jism Par,

Uske Bistar Ki Chadar Bhi Usse Sawal Kar Rahi Hogi.

 

तू हंसती रहे यही दुआ मांगता हूं – kanha kamboj new shayari

kanha kamboj new shayari images
kanha kamboj new shayari images

तूने रिश्ता तोड़ा है मजबूरी होगी मैं मानता हूं,

मुझे तो निभाने दे मैं तुझसे भला क्या मांगता हूं,

और दर्द में देख कर तू मुझे मुस्कुरा रही है,

और मैं कितना पागल हूं, तू हंसती रहे यही दुआ मांगता हूं।

 

Tune Rishta Toda Hai Majboori Hogi Main Manta Hun,

Mujhe To Nibhane De Main Tujhse Bhala Kya Mangta Hun,

Aur Dard Me Dekh Kar Tu Mujhe Muskura Rahi Hai,

Aur Main Kitna Pagal Hun, Tu Hasti Rahe Yahi Dua Mangta Hun.

 

ये दिल धड़कना भूल जाता है – trd shayari kanha kamboj

trd shayari kanha kamboj photos
trd shayari kanha kamboj photos

जब पुकारना हो मुझे मेरा नाम भूल जाता है,

उसे इश्क़ तो आता है पर करना भूल जाता है,

और उसे कह दो के यूं मुस्कुरा के ना देखे मुझे,

ये दिल पागल है धड़कना भूल जाता है।

 

Jab Pukarna Ho Mujhe Mera Naam Bhool Jata Hai,

Use Ishq To Aata Hai Par Karna Bhool Jata Hai,

Aur Use Keh Do Ke Yun Muskura Ke Na Dekhe Mujhe,

Yeh Dil Pagal Hai Dhadkna Bhool Jata Hai.

 

एक्टिंग का कोर्स लाज़वाब कर रही है – kanha kamboj sad shayari

kanha kamboj sad shayari photos
kanha kamboj sad shayari photos

मेरी आंखों से आंसू नहीं रुक रहे,

एक तू है कि हंस के बात कर रही है,

लहजे में माफ़ी और आंखों में शर्म तक नहीं,

यह एक्टिंग का कोर्स तू लाज़वाब कर रही है।

 

Meri Aankhon Se Aansun Nahi Ruk Rahe,

Ek Tu Hai Ke Has Ke Baat Kar Rahi Hai,

Lahje Me Mafi Aur Aankhon Mein Sharam Tak Nahi,

Yeh Acting Ka Course Tu Lajwab Kar Rahi Hai.

 

Also Read:

 

इक तू हंस के बात कर रही है – kahana kamboj shayari

kahana kamboj shayari images
kahana kamboj shayari images

तेरी हर हक़ीक़त से रूबरू हो गया हूं मैं,

ये पर्दा किस बात का कर रही है?

इक मैं हूं आंखों से आंसू नहीं रुक रहे,

इक तू है हंस के बात कर रही है।

 

Teri Har Haqiqat Se Rubaru Ho Gaya Hun Main,

Yeh Parda Kis Baat Ka Kar Rahi Hai?

Ek Main Hun Aankhon Se Aansun Nahi Ruk Rahe,

Ek Tu Hai Has Ke Baat Kar Rahi Hai.

 

अपनी हद से गुज़र गया है – shayari by kanha kamboj

shayari by kanha kamboj images
shayari by kanha kamboj images

जो कभी ज़हन तक में तसलीम था वो नज़रों तक से गिर गया है,

वो बता रहा है हद में रहो, जो अपनी हद से गुज़र गया है।

 

Jo Kabhi Zahen Tak Mein Tasleem Tha Woh Nazron Tak Se Gir Gaya Hai,

Woh Bata Raha Hai Hadd Mein Raho Jo Apni Hadd Se Guzar Gaya Hai.

 

ज़माना निकल जाएगा मेरी गहराई नापने में – shayari of kanha kamboj

shayari of kanha kamboj images
shayari of kanha kamboj images

वक़्त ज़ाया ना कर मेरे किरदार को पहचानने में,

तू ख़ुद एक कहानी बन जाएगा मेरी हक़ीक़त जानने में,

और चल दिए बेपरवाह देखने गहराई मेरे दर्द की,

इतना गहरा हूं कि ज़माना निकल जाएगा मेरी गहराई नापने में।

 

Waqt Zaya Na Kar Mere Kirdar Ko Pehchanne Mein,

Tu Khud Ek Kahani Ban Jayega Meri Haqiqat Janne Mein,

Aur Chal Diye Beparwah Dekhne Gehrayi Mere Dard Ki,

Itna Gehra Hun Ke Zamana Nikal Jayega Meri Gehrayi Napne Mein.

 

उतरा हुआ चेहरा नहीं देखा जाता – krishna kamboj shayari

krishna kamboj shayari images
krishna kamboj shayari images

ख़ामोशी का अपना मज़ा है लफ़्ज़ कोई बहरा नहीं होता,

तेरी आंखों पर काजल की गिरफ्त तो ठीक थी,

ये आंसुओं का पहरा नहीं देखा जाता,

अपने हिस्से की खुशियां मैं लुटा दूं तुझ पर,

तेरा उतरा हुआ चेहरा नहीं देखा जाता।

 

Khamoshi Ka Apna Maza Hai, Lafz Koi Behra Nahi Hota,

Teri Aankhon Par Kajal Ki Giraft To Theek Thi,

Yeh Aansuon Ka Pehra Nahi Dekha Jata,

Apne Hisse Ki Khushiyan Main Luta Dun Tujh Par,

Tera Utra Hua Chehra Nahi Dekha Jata.

 

मेरा गवाह मुकर गया है – kanha kamboj ki shayari

kanha kamboj top shayari images
kanha kamboj top shayari images

हिफाज़त दुश्मनों से तो कर लेते कोई अपना दुश्मनी पर उतर गया है,

मेरे हक़ में जो दलीलें थीं फ़िज़ूल हैं अब,

मेरा गवाह, गवाही देने से मुकर गया है।

 

Hifazat Dushmano Se To Kar Lete,

Koi Apna Dushmani Par Utar Gaya Hai,

Mere Haq Mein Jo Daleelen Thi Fizool Hai Ab,

Mera Gawah, Gawahi Dene Se Mukar Gaya Hai.

4 thoughts on “Kanha Kamboj Shayari in Hindi with images Download”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *